किताबें झांकती हैं !

किताबें झांकती हैं बंद अलमारी के शीशों से,  बडी हसरत से तकती हैं….  महीनों अब मुलाकातें नहीं होती।  जो शाम कटती थी उनकी सोहबत में    अब… Read more “किताबें झांकती हैं !”

​कोख से एक बेटी की पुकार

​ कोख से एक बेटी की पुकार  –  ” क्या खता हुई है मुझसे,  क्यों दुनिया मेरी दुश्मन है।  दहेज बनाया है समाज ने, डाले मुझ पर… Read more “​कोख से एक बेटी की पुकार”

जाइए कुछ दिनों ” भारत की आत्मा -गांव ” की गोद में

​फ्रिज के ठण्डे पानी की जगह घडे का शीतल जल, कूलर की कृत्रिम हवा की जगह पेड़ की प्राकृतिक छाँव, कोल्ड ड्रिंक की जगह दूध, ;मट्ठा और… Read more “जाइए कुछ दिनों ” भारत की आत्मा -गांव ” की गोद में”

क्यों न पाकिस्तान को खत्म कर दिया जाये? 

 वर्तमान में एक चर्चा जोरों पर है ,  क्यों न पाकिस्तान को खत्म कर दिया जाये? ये पूरे देश में उठती भावनाओं की माँग है …! मेरा… Read more “क्यों न पाकिस्तान को खत्म कर दिया जाये? “

आइये मिलकर नया इतिहास लिख डालें …..|

​सडकों पर सोते आवास हीन लोग,  भिक्षावृत्ति के जाल में फसे अनगिनत बच्चे,  बडे शहरों में खुलेआम होती वेश्यावृति एेसी ही अनेकों समस्याओं से हम प्रतिदिन दो… Read more “आइये मिलकर नया इतिहास लिख डालें …..|”

आप भी बन जायें  लेखक , प्रकाशित करायें अपनी रचना ! 

​ नमस्कार मित्रों , धर्मदृष्टि द्विमासिक पत्रिका है जिसका प्रकाशन मैनपुरी जनपद उत्तर प्रदेश से २०१५ में प्रारम्भ हुआ था | पत्रिका एक वर्ष की शानदार सफलता… Read more “आप भी बन जायें  लेखक , प्रकाशित करायें अपनी रचना ! “

यह दीपावली सेना के नाम !

हम बॉर्डर पर तो नहीं जा सकते लेकिन बॉर्डर से आती खबरों में और टीवी पर सुनाई देने वाले शहीदों के घर से आती रूदन की आवाज… Read more “यह दीपावली सेना के नाम !”